Thursday, July 1, 2010

जीवन भर माधुर्य रहेगा

 
कृपा दृष्टि से
उठा श्याम ने
ऐसा करतब किया
उठा मुझको 
पहुंचाया छींके तक

पर मटके की ओर
बढ़ा जब हाथ 
तो सहसा
उड़ी मटकिया 
और उसके पीछे पीछे उड़ता
गोल-गोल चक्कर खाता मैं
 झोपडिया में

ग्वाल बाल
हँसते ताली दे
देख रहे थे यह कौतुक

फिर कान्हा के ही संकेत 
रुका मटका
रुक टंगा हवा में मैं भी
पर
 माखन तक
अब भी मेरी
पहुँच नहीं थी

मन ही मन कान्हा ने पूछा 

'अब जो गिरे, फूटे धरती पर
माखन से यह भरी मटकिया
निकले मक्खन,
तुम जो गिरे 
तो क्या निकलेगा?
फिर कान्हा ही बोला हँस कर
प्रेम निकल आएगा तुमसे
पगले तुझमें प्रेम है मेरा
भरा लबालब 
 
मगन ध्यान में
करके मुझको
भाग गए हैं कान्हा के संग गोप-ग्वाल सब 

जान रहा
मेरे हिस्से का मक्खन तो
मुख पर लिपटा है
है इतना माखन कि जिससे
जीवन भर माधुर्य रहेगा

२९ अप्रैल २००४ को लिखी
१ जुलाई २०१० को लोकार्पित

1 comment:

Prarthana gupta said...

aap to kamaal ka likhte hain , mann ko chu kar hum kavita mein bh jate hain.....