Friday, August 20, 2010

कृष्ण नाम की नगरी है

 
कृष्ण नाम की नगरी है
प्रभु प्रेम से भरी गगरी है

चलूँ छलकता प्यार लिए
नमन हज़ारों बार लिए

घट-घट व्यापी का अवलंबन
कृपा उसी की सारा जीवन 
बहूँ , उसी का सार लिए
उसी दिशा की धार लिए
जिससे
पग पग प्रकट हुआ वह मुस्काये
जिससे
पग पग कृष्ण प्रेम रस गहराए 

जय श्री कृष्ण

अशोक व्यास
१२ मार्च १९९५ को लिखी 
२० अगस्त २०१० को लोकार्पित
k

2 comments:

वन्दना said...

कृष्ण प्रेम से भरी सुन्दर रचना।

महेन्द्र मिश्र said...

प्रेमरस से पगी बढ़िया रचना...आभार