Saturday, June 12, 2010

जो है सुख सागर


मन अभी तक
रुका है यहीं तक

नहीं उगे हैं पर
नहीं मिला गगन घर
रुका है धरती पर
जड़ता अपना कर

मन उठो ना
मन उड़ो ना
मन छोडो चक्कर
आगे बढ़ो ना

मत बैठो सकुचा कर
आये नटवर नागर
हरते संताप सब
कृपारस बरसा कर

मन को नहला कर
कान्हा धुन गा कर
शरण आओ उसकी 
जो है सुख सागर


अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
२७ अक्टूबर २००७ को लिखी
१२ जून २०१० को लोकार्पित

1 comment:

Prarthana gupta said...

u always touch $feed my soul...aatma trpt ho jaati hai aapki kavitayein pad kar...kanaha prem hai hi aisa...